विपरीत लहरों पे तैरना
तूफ़ान में किनारा ढूंढना - आसान नहीं होता
तो कठिन भी नहीं होता !
पर भंवर में जब जीवन से लड़ाई होती है
तब कई विचार पनपते हैं
............
बड़ी लहरें तो अपने मद में होती हैं
नन्हीं लहरें बेख़ौफ़
भंवर के रास्तों को समतल बना जाती हैं
और - किनारा खुद बढ़ने लगता है ...

रश्मि प्रभा





ग्रहों का साथ ...

उस रोज़ तुमने अपनी परेशानियों में घिर के कह दिया ..
"मेरा ग्रह तुमलोगों को लग गया .."
तब से अनगिनत बार तुम्हारे ये शब्द
मेरे कानों में गूँज चुके हैं
और मुझे अन्दर तक झकझोर चुके हैं ..
ग्रह ?
तुमने तो ग्रहण से निकल कर हमें चमकाया है ...
फिर ये कैसे कहा तुमने ..
ग्रहों का काला साया जब घबराहट देता है ...
तो तुम्हारा नाम लेने भर से ही मन में रौशनी भर जाती है ...
फिर ये कैसे कहा तुमने ...
एक नहीं हज़ार ग्रहों से लड़ी हो तुम ..
अपने रक्षा मन्त्र के कवच से
हमेशा हमें बाँध कर रखा है तुमने ..
फिर ये कैसे कहा तुमने ...
ग्रहों ने कई खेल खेले तुम्हारे साथ ,
अकेले जूझ कर उनसे जीती हो तुम ..
3 उँगलियों को थाम कर
हर रात का सफ़र तय किया है तुमने ..
आज वो 3 हाथ तुम्हें सँभालने को तैयार हैं ...
फिर ये कैसे कहा तुमने ..
और जहाँ तक तुम्हारे ग्रहों का लगना है
तो अपने ग्रह तो हमेशा हमारे साथ रखना ..
तभी तो आने वाले हर अँधेरे को हम
तुम्हारे ग्रहों की रौशनी से चीर पाएंगे ...

खुशबू प्रियदर्शिनी

25 comments:

  1. अपने गृह तो हमेशा हमारे साथ रखना ..

    प्रेरक काव्य!! प्रभावशाली अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. सुन्दर अभिव्यक्ति!दिल को छू गई हर एक पंक्तियाँ!

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन कविता।


    सादर

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर और गहरे भाव भरे हैं प्रियदर्शिनी को बधाई…………बेहद खूबसूरती से दिल की बात कह दी है।

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत भाव लिए अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. वाह दीदी, बिलकुल माँ कि बेटी ... बहुत दिन बाद ब्लॉग जगत में आके अच्छी कविता पढ़ने को मिली वो भी भांजी की लिखी हुई ... बधाई !

    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत सुन्दर लगी रचना ..बेहतरीन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  8. सटीक तर्क देती हुई ...बहुत सुंदर प्रस्तुति....!!
    बधाई दी आप दोनों को .....!!

    ReplyDelete
  9. बहुत ही प्यारी रचना...बधाई और शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  10. नमस्कार....
    बहुत ही सुन्दर लेख है आपकी बधाई स्वीकार करें
    मैं आपके ब्लाग का फालोवर हूँ क्या आपको नहीं लगता की आपको भी मेरे ब्लाग में आकर अपनी सदस्यता का समावेश करना चाहिए मुझे बहुत प्रसन्नता होगी जब आप मेरे ब्लाग पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएँगे तो आपकी आगमन की आशा में पलकें बिछाए........
    आपका ब्लागर मित्र
    नीलकमल वैष्णव "अनिश"

    इस लिंक के द्वारा आप मेरे ब्लाग तक पहुँच सकते हैं धन्यवाद्

    1- MITRA-MADHUR: ज्ञान की कुंजी ......



    3- http://neelkamal5545.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. नन्ही लहरें बेख़ौफ़ ...
    गृह की मजबूती ग्रह को दबा कर रखती हैं !
    आशा और विश्वास से भरपूर कविता!

    ReplyDelete
  12. बड़ी लहरें तो अपने मद में होती हैं
    नन्हीं लहरें बेख़ौफ़
    भंवर के रास्तों को समतल बना जाती हैं
    bahut achchi linen hain.......

    ReplyDelete
  13. और जहाँ तक तुम्हारे ग्रहों का लगना है
    तो अपने ग्रह तो हमेशा हमारे साथ रखना ..
    wah.....kya baat hai......

    ReplyDelete
  14. kisi kee nakaratmak soch ko isa tarah se sakaratmak bana kar ham jab khud grahan karte hain aur usako bhi usake liye taiyar karte hain tab vo usa soch se bahar aa sakta hai. gahare manovishleshan ko prastut karti hui rachna.
    aabhar.

    ReplyDelete
  15. बहुत ख़ूबसूरत भावपूर्ण प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  16. हर शब्‍द मन को छूता हुआ ..बहुत-बहुत अच्‍छा लिखा है आपने ..शुभकामनाएं आपके लिये ।

    ReplyDelete
  17. bahut sundar shabdon men khushboo ne apni maan ke pyar aur mehnat ka varnan kiya hai
    rashmi ap ko aur khushboo ap ko bhi bahut bahut mubarak ho
    khushboo ap ke liye dher sara aasheervad bhee

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर कविता....
    सादर शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  19. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  20. वाह बहुत ही सुन्दर

    ReplyDelete
  21. तो अपने ग्रह तो हमेशा हमारे साथ रखना ..
    तभी तो आने वाले हर अँधेरे को हम
    तुम्हारे ग्रहों की रौशनी से चीर पाएंगे ...

    माँ के ग्रह तो हमेशा बच्चों के अनुकूल होते हैं ..सच्ची और दिल से निकली अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  22. एक नई महक है...खुशबू जी की रचना में...

    ReplyDelete
  23. hume jo b milta hia apne grahon se milta hai na ki dusron ke grahon se

    ReplyDelete

 
Top