शब्दों की शरारत
और मस्त हवा का झोंका - मेरी भावनाएं ...
कभी लेती है लम्बी उड़ान
कभी छुप्पाछुप्पी के खेल
कभी नन्हीं हथेलियों में ढेर सारे ख्वाब
कभी टूटे ख़्वाबों की झिलमिलाती बूंदें
और फिर ..... नए ख्वाब , नई शरारत, नई उड़ान
....
ज़िन्दगी रूकती कहाँ है !!!


रश्मि प्रभा


===========================================================
कभी मैं खुद ...

" कभी मेरे शब्द शरारत करते हैं और कभी मैं खुद ......"

बहते हैं जब मेरे अधूरे ख्वाब ,
मेरी आँखों से कतरा - कतरा ,
कभी बिखरकर टूट जाते हैं ,
कभी मैं खुद उन्हें , पोंछ लेती हूँ !

आती है जब जिंदगी में मुश्किलें ,
नदी के तीव्र बहाव की तरहा,
तब उड जाते हैं , बह जाते हैं ,
सहारे मेरे , पुराने बांधो की तरहा ,
कभी दूर बहे निकल जाते हैं ,
कभी मैं खुद उन्हें , छोड़ देती हूँ !

मिलती है जब नयी रौशनी ,
फिर एक नए जन्म की तरह ,
तब लगता है पुराना सब ,
सफ़ेद और शांत , नए की तरह ,
कभी आँखें चौंध जाती हैं ,
कभी मैं खुद उन्हें , मूंद लेती हूँ !


खिलखिलाते हैं शब्द मेरे,
जब कभी बालक की तरह ,
छिपा होता है दर्द कविताओं में ,
कागज की तरह ,
कभी शब्द छिटक-कर बिखर जाते हैं ,
कभी मैं खुद उन्हें ,कागज में बांध देती हूँ !
My Photo




अंजलि माहिल(ममता )

22 comments:

  1. कभी नन्हीं हथेलियों में ढेर सारे ख्वाब
    कभी टूटे ख़्वाबों की झिलमिलाती बूंदें
    और फिर ..... नए ख्वाब , नई शरारत, नई उड़ान

    वाह ... बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ... आभार ।

    ReplyDelete
  2. कभी शब्द छूट जाते हैं , कभी छोड़ दिए जाते हैं ...
    सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  3. वाह, भावनाओं को कितनी सुन्दर तरीके से अंजलि जी शब्दों में पिरोये हैं ...

    ReplyDelete
  4. बहुत ही अच्छी रचना थी....

    ReplyDelete
  5. बहते हैं जब मेरे अधूरे ख्वाब ,
    मेरी आँखों से कतरा - कतरा ,
    कभी बिखरकर टूट जाते हैं ,
    कभी मैं खुद उन्हें , पोंछ लेती हूँ !
    कोमल भाव लिए सुन्दर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  6. द्वंदों की खुबसूरत अभिव्यक्ति. प्यारा आन्तरिक संवाद खुद से ही.

    ReplyDelete
  7. मिलती है जब नयी रौशनी ,
    फिर एक नए जन्म की तरह ,
    तब लगता है पुराना सब ,
    सफ़ेद और शांत , नए की तरह ,
    कभी आँखें चौंध जाती हैं ,
    कभी मैं खुद उन्हें , मूंद लेती हूँ !

    वाह....सुन्दर भावाभिव्यक्ति..:)

    ReplyDelete
  8. सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  10. खिलखिलाते हैं शब्द मेरे,
    जब कभी बालक की तरह ,
    छिपा होता है दर्द कविताओं में ,
    कागज की तरह ,

    बहुत ही सार्थक प्रस्तुति....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  11. sunder abhivyakti...........

    ReplyDelete
  12. लम्बे अंतराल के बाद वटवृक्ष पर आना सुखदा रहा ...........

    हम सब के शब्दों में ही सारी दुनिया सिमटी है ........आभार

    ReplyDelete
  13. सर्व श्रेष्ठ कवयत्री के पुरस्कार के लिये मनपूर्वक हार्दिक अभिनंदन!!!

    ReplyDelete
  14. सर्व श्रेष्ठ कवयत्री के पुरस्कार के लिये मनपूर्वक हार्दिक अभिनंदन!!!

    ReplyDelete
  15. बहते हैं जब मेरे अधूरे ख्वाब ,
    मेरी आँखों से कतरा - कतरा ,
    कभी बिखरकर टूट जाते हैं ,
    कभी मैं खुद उन्हें , पोंछ लेती हूँ !

    bahut sunder..komalta ka ehsaas liye ek sunder kavita..

    ReplyDelete
  16. बहते हैं जब मेरे अधूरे ख्वाब ,
    मेरी आँखों से कतरा - कतरा ,
    कभी बिखरकर टूट जाते हैं ,
    कभी मैं खुद उन्हें , पोंछ लेती हूँ !

    bahut sunder..komalta ka ehsaas liye ek sunder kavita..

    ReplyDelete
  17. बहुत बहुत धन्यवाद आपका रश्मि जी ....मुझे यहाँ शामिल करने के लिए ...

    ReplyDelete

 
Top