पाँव बढ़ाने की देर है
अकेले नहीं रहोगे
हिम्मत लाने की देर है
अकेले नहीं रहोगे ....


रश्मि प्रभा




===============================================================
एकला चलो तो

तुम जो चलो तो
मैं भी चल ही दूँगी
हवा मंथर मंद सी
पुष्प संग सुगंध सी
कहीं यह पढ़ा था
दिल ने भी कहा था
एकला चलो रे
आकाश को बढ़ो रे
छू लिया गगन को
पा लिया सपन को
शून्य सा लगा था
मोती बिन बिंधा था
जब तलक चमक थी
हँसी थी खनक थी
सोचते रहे हम
परछाइयां रहेगी
पर धूप जब ढली तो
तन्हाईयाँ बची थी
एकला चलो तो
भाव संग रहे यह
अकेले चल पड़े हो
अकेले पर रहो न हों
शून्य से बढे तो
एक से जो दश हो
शत हो सहस्त्र हो
न छलना छल सकेगी
न प्रवंचना रहेगी
नेक जब चलन हों
कांटे या चमन हों
पग ये बढ़ चलेंगे
एकला चले तो हैं
मगर
ना रहेंगे एकले
My Photo




वंदना 

16 comments:

  1. श्री गणेश उत्सव पर्व पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  2. सोचते रहे हम
    परछाइयां रहेगी
    पर धूप जब ढली तो
    तन्हाईयाँ बची थी
    एकला चलो तो
    यही है इंसानी नियति सबके साथ होते हुये भी उसे अकेला ही चलना पड्ता है…………बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति /बहुत सुंदर शब्दों का चयन लिए हुए शानदार रचना /बधाई आपको /

    ReplyDelete
  4. सही लिखा है वंदना आपने.आपके इन विचारों का मैं उतना ही सम्मान करती हूँ जितना..........खुद अपना.हा हा हा
    ऐसे ही रस्ते जीवन में चुने पाँव ...मन दोनों लहुलुहान हो गए.मन मेरे साथ रहा.उसने सुकून पाया इसलिए ज़ख्मों को भूल गया.
    लहुलुहान पांवों ने अपने निशाँ छोड़ दिए थे उन रास्तों पर.....देखा कई चले आ रहे हैं ...जो डरते थे इन रास्तों की ओर देखने से ही क्योंकि.....मानव प्रवृति सरलता,सहजता ढूढने की जो रही है.
    और....खुश हूँ.जीवन से संतुष्ट भी.नही...नही...गलत न समझना.एक सीधीसादी औरत हूँ.यह आत्मश्लाघा भी नही...जीवन के पृष्ठ है जिन्हें खोल कर पद्धति हूँ और.....आप जैसे बच्चों को बताती हूँ दरों नही ...चलो..अकेले ही काफिले बन जायेंगे...आज नही...हमारे जाने के बाद ही सही एक पगडण्डी तो मिल जायेगी लोगों को बनी हुई. जियो और लिखा है उसे जी जाओ. प्यार

    ReplyDelete
  5. bahan ji mujhe aapne akelepn se bachne kaa farmula de diya hai shukriya bhtrin rchnaa ke liyen badhaai ...akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  6. रश्मि जी! इमानदारी से कहूँ...पहली बार मैं किसी ऐसे ब्लॉग पर पहुंची हूँ जो सचमुच 'दिल को छू' जाने वाला लिखती है.वंदना से मिलाया.थेंक्स

    ReplyDelete
  7. प्रेरक रचना ...बहुत सुन्दर भाव .

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब... श्री गणेश उत्सव पर्व पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर ...गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  10. प्रेरक रचना....

    ReplyDelete
  11. thanks rashmi ji
    आपने मेरा हौसला बढ़ाया और पाठकों के परिवार में वृद्धि हुई जैसा कि कविता का भाव है आपका अनुगमन करते हुए शायद मंजिल तक पहुँच पायें

    ReplyDelete
  12. Bahut sunder bhav hen vandana ...har insaan akela hi aaya hei or akela hi jana hei ...saathi to yahi chut jaane hei ...

    ReplyDelete
  13. काफिला बनता गया...

    ReplyDelete

 
Top